Posted by: Dr. Neeraj Daiya | 30/11/2017

मनोहर मेवाड़ राजस्थानी साहित्य सम्मान

Mewad Samman

Neeraj-Daiya-115

 


NEWS 30-11-16 (2)NEWS 30-11-16 (4)

राजसमन्द। राव मनोहरसिंह स्मृति न्यास आईडाणा एवं साकेत साहित्य संस्थान आमेट की ओर से कला साहित्य संस्कृति संगीत एवं पत्रकारिता में प्रतिवर्ष दिये जाने वाले नामों की घोषणा चयन समिति की अनुशंषा के आधार पर स्मृति न्यास के अध्यक्ष भगवतसिंह पारस ने की।
भगवतसिंह पारस ने बताया कि इस वर्ष का मनोहर मेवाड़ साहित्य सम्मान हिन्दी में श्री फतहलाल गुर्जर अनोखा कांकरोली, उर्दू में खुर्शीद अहमद शेख ‘खुर्शीद‘ उदयपुर, राजस्थानी में डॉ. नीरज दइया बीकानेर, संस्कृत में डॉ0 कुसुमलता टेलर उदयपुर, पत्रकारिता में भागीरथसिंह पत्रकारिता गौरव पुरुस्कार श्री गणपतलाल जाट संवाददाता आईडाणा को प्रदान किया जाएगा। चयन समिति में प्रकाश तातेड़, डॉ. श्रीकृष्ण जुगनु, माधव नागदा, विजय सिंह राव, ने साहित्यकारों का वरियता क्रम से चयन किया है।
सम्मान समारेाह समिति के संयोजक नारायणसिंह राव ने कहा कि सम्मानित होने वाले प्रतिभाओं को सात हजार एक सौ नकद एवं प्रशस्ति पत्र के साथ स्मृति चिह्न देकर दिसम्बर 2016 माह में आयोजित मेधा मिलन पर्व-6 में सम्मानित किया जाएगा।
इससे पूर्व साहित्यकार प्रकाश तातेड़, माधव नागदा, चतुर कोठारी, त्रिलोकी मोहन पुरोहित डॉ. श्रीकृष्ण जुगनु, डॉ. करुणा दशोरा, रीना मेनारिया, भेरु सिंह राव क्रान्ति, डॉ. बस्तीमल सोलंकी, डॉ. मुरलीधर कन्हैया व डॉ. शक्ति कुमार शर्मा को हिन्दी राजस्थानी एवं संस्कृत में उत्कृष्ट साहित्य सृजन, आयोजन एवं प्रकाशन के क्षेत्र में किए गए उल्लेखनीय कार्यों से सम्मानित किया जा चुका है।
————–
राजस्थानी साहित्य के लिए मनोहर मेवाड़ साहित्य सम्मान के विजेता डॉ. नीरज दइया को हाल ही में नानूराम संस्कर्ता साहित्य पुरस्कार की घोषणा हुई है। डॉ. दइया लंबे समय से साहित्य के क्षेत्र में सक्रिय हैं। 22 सितम्बर 1968 को रतनगढ़ (चूरू) में जल्में कवि-आलोचक डॉ. दइया ने ‘निर्मल वर्मा के कथा-साहित्य में आधुनिकता बोध’ विषय पर पीअेच.डी. की उपाधि प्राप्त की। आप माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान, अजमेर की राजस्थानी विषय पाठ्यक्रम समिति के संयोजक और राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी की समितियों के सदस्य भी रहे। आपकी अनेक पुस्तके प्रकाशित हैं जिनमें प्रमुख है- लघुकथा-संग्रह ‘भोर सूं आथण तांई’ (1989), कविता-संग्रह ‘साख’ (1997), लांबी कविता ‘देसूंटो’ (2000), ‘पाछो कुण आसी’ (2015), समालोचना ‘आलोचना रै आंगणै’ (2011), ‘बिना हासलपाई’ (2014), बाल-कथा संग्रह ‘जादू रो पेन’(2012) और हिंदी कविता-संग्रै ‘उचटी हुई नींद’ (2013)। अनुवाद में : पंजाबी काव्य-संग्रह / अमृता प्रीतम ‘कागद अर कैनवास’ (2000), हिंदी कहाणी-संग्रह / निर्मल वर्मा ‘कागला अर काळो पाणी’ (2002), चौबीस भारतीय भाषाओं के कवियों की कविताओं का राजस्थानी अनुवाद ‘सबद नाद’ (2012), गुजराती यात्रा-वृत्तांत / भोलाभाई पटेल ‘देवां री घाटी’ (2013), नन्दकिशोर आचार्य की प्रतिनिधि कविताएं ‘ऊंडै अंधारै कठैई’ (2016), सुधीर सक्सेना की प्रतिनिधि कविताएं ‘अजेस ई रातो है अगूण’ (2016) और मोहन आलोक के पुरस्कृत राजस्थानी कविता-संग्रह का हिंदी अनुवाद ‘ग-गीत’ (2004)। संचयन एवं संपादन में : ‘मोहन आलोक री कहाणियां’ (2010), ‘कन्हैयालाल भाटी री कहाणियां’ (2011), राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी, बीकानेर से प्रकाशित 55 युवा कवियों की कविताओं का संग्रह ‘मंडाण’ (2012)। डॉ. नीरज दइया को साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली से ‘बाल साहित्य पुरस्कार’, राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी, बीकानेर से अनुवाद पुरस्कार’, नगर विकास न्यास से ‘पीथळ पद्य पुरस्कार’, रॉटरी क्लब बीकानेर आदि अनेक मान सम्मान मिल चुके हैं।

Neeraj-Daiya-01-copyबीकानेर। राव मनोहरसिंह स्मृति न्यास, आईडाणा और साकेत साहित्य संस्थान आमेट द्वारा कांकरोली जिला राजसमंद में 23 दिसम्बर शुक्रवार को आयोजित काव्य त्रिवेदी संध्या में हिंदी, राजस्थानी और उर्दू के विभिन्न कवियों के साथ बीकानेर के मधु आचार्य ‘आशावादी’, नवनीत पाण्डे, राजेन्द्र जोशी और डॉ. नीरज दइया अपनी कविताओं की प्रस्तुति देंगे। कवि सम्मेलन में जोधपुर के डॉ. आईदानसिंह भाटी और सत्यदेव सवितेंद्र, उदयपुर के राव अजातशत्रु, चित्तोड़गढ़ के अब्दुल जब्बार, सोजत के वीरेंद्र लखावत, अहमदाबाद के नरपतदान आसिया सहित अनेक कवियों को आंत्रित किया गया है।
शनिवार को मनोहर मेवाड़ साहित्य सम्मान मेधा मिलन पर्व 6 के सम्मान समारोह की अध्यक्षता प्रख्यात लेखक डॉ. प्रीता भार्गव करेंगी जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में साहित्यकार मधु आचार्य आशावादी एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रसिद्ध कवि डॉ. आईदानसिंह भाटी, डॉ. ज्योतिपुंज एवं युगलबिहारी दाधीच शामिल रहेंगे। कार्यक्रम के संयोजक नारायणसिंह राव ने बताया कि इस बार राजस्थानी साहित्य के अंतर्गत डॉ. नीरज दइया को सम्मानित किया जाएगा। डॉ. दइया को मनोहर मेवाड़ साहित्य सम्मान के अंतर्गत दस हजार रुपये की राशि तथा स्मृति चिह्न, प्रमाण पत्र आदि भेंट किए जाएंगे।
संस्थान प्रतिवर्ष हिंदी, उर्दू, संस्कृत और राजस्थानी साहित्य में चयनित साहित्यकारों को सम्मानित करता है तथा भागीरथसिंह पत्रकारित पुरस्कार भी संस्थान द्वारा दिया जाता है। डॉ. नीरज दइया से पूर्व मनोहर मेवाड़ साहित्य सम्मान से रीना मेनारिया, बस्तीमल सोलंकी, भेरुसिंह राव ‘क्रांति’ एवं माधव नागदा को सम्मानित किया जा चुका है। इस वर्ष के सम्मान समारोह में पूर्व पुरस्कृत साहित्यकार भी कांकरोली पहुंच रहे हैं।
डॉ. नीरज दइया को सम्मानित किए जाने के अवसर पर बुलाकी शर्मा, आनंद वी आचार्य, हरीश बी. शर्मा, देवकिशन राजपुरोहित, मंगत बादल, मदन गोपाल लढ़ा, राजूराम बिजारणियां, मीठेश निर्मोही, फारूख आफरीदी, जेबा रसीद, रजनी छाबडा, ओम नागर आदि ने बधाई और शुभकामनाएं व्यक्त की हैं।

 

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: