ऊंडै अंधारै कठैई

UNDE ANDHRE KATHE(1)
ऊंडै अंधारै कठैई (2016) डॉ. नन्दकिशोर आचार्य री टाळवी कवितावां / संचै-अनुसिरजण : नीरज दइया
प्रकाशक : सूर्य प्रकाशन मन्दिर, बीकानेर- 334003, पाना : 120, कीमत : 200/-Lokarpan Samaroh Neeraj Daiyas bookफ्लैप : मोहन आलोक – अेक लाम्बै मिठास रै सीगै
पोथी री भूमिका / नीरज दइया : अनुसिरजण – मूळ कविता रो भावाभिनय
समीक्षावांडॉ. मदन सैनी लोकार्पण समारोह में / भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ / आईदान सिंह भाटी / डेली न्यूज में / देवकिशन राजपुरोहित / डॉ. मदन गोपाल लढ़ा राजस्थान पत्रिका में /

Advertisements
%d bloggers like this: